देश की खातिर पिता की मौत को भी भुलाया और बन गई हॉकी चैंपियन

Lalrem siami hockey player
Lalrem siami hockey player

इस साहस और समर्पण को किन शब्दों में व्यक्त किया जाये। बस इतना कहना चाहूंगा के इस राष्ट्र का भविष्य लारेम जैसे उन असंख्य युवाओं पर टिका हुआ है जिनके लिये राष्ट्र की आन बान और शान से बढ़ कर कुछ भी नहीं है ।यह तस्वीर मिज़ोरम की 19 वर्षीय हॉकी खिलाड़ी लारेम सैमी की है। अपने बेहतरीन खेल के बलबूते लारेम का चयन हिंदुस्तान की भारतीय महिला हॉकी टीम में किया गया था। बीते रविवार जब सारा राष्ट्र क्रिकेट वर्ल्ड कप में खोया हुआ था तो हिंदुस्तान की बेटियों ने कुछ ऐसा कर दिखाया जो महिला हॉकी में किसी करिश्मे से कम नहीं है।

Read Also – टेक्नोलॉजी की मदद से माँ को बनाई लाइट और कैमरा वाली लाठी

जापान की टीम को जापान की धरती पर 3-1 से करारी शिकस्त

भारतीय महिला हॉकी टीम ने विश्व हॉकी के प्रतिष्ठित एफआईएच टूर्नामेंट के फाईनल में जापान की टीम को जापान की धरती पर 3-1 से करारी शिकस्त देते हुये विजयश्री प्राप्त की। फाईनल से पहले भारतीय महिला हॉकी टीम का सेमीफाइनल मैच चिली की मज़बूत टीम के साथ था। तिरंगे की शान को बरकरार रखने का जुनून लिये राष्ट्र की बेटियां चिली टीम को कड़ी टक्कर देने का संकल्प ले चुकी थी। उस मैच को जीतते ही हिंदुस्तान की महिला टीम का ओलम्पिक के लिये क्वालीफाई करना भी निश्चित था।

मैच से एक दिन पहले लारेम को मिला पिता की मौत का समाचार 

मैच से एक दिन पहले लारेम के फोन पर उनके घर से एक कॉल आया। लारेम को लगा के शायद उनके परिजनों ने उन्हें कल के मैच के लिये शुभकामनाएं प्रेषित करने के लिये कॉल किया है। इसलिए लारे में खुश होते हुए फोन उठाया। पर डबडबाती आवाज़ में दूजी ओर से कोई कुछ कहने का प्रयास कर रहा था। कुछ क्षण शांति रही और फिर उन्हें सूचित किया गया के उनके पिता अब इस दुनिया में नहीं रहे। हार्ट अटैक से उनका निधन हो चुका है। एक क्षण में लारेम की दुनिया हिल चुकी थी। वह उस शख्स को खो चुकी थी जिसने उन्हें उंगली पकड़ कर चलना सिखाया था, जिसने पहली बार उनके हाथों में हॉकी स्टिक थमाई थी।

Read Also – Blogging vs youtube best kya hai in hindi

अपने बाबा की लाडली को इस बात पर विश्वास करने में काफी वक्त लगा के अब उनके पिता इस दुनिया में नहीं हैं। पिता के साथ बिताए हर स्वर्णिम पल की यादें आँखों से बह रही थी। कोच और टीम मैनेजमेंट ने कहा के लारेम तत्त्क्षण अपना सामान बांध लें और अगली फ्लाइट से हिंदुस्तान लौट जायें ताकि वह अपने पिता की अंतिम यात्रा में शामिल हो सकें। टीम हताश हो गयी। अगले दिन एक महत्वपूर्ण मुकाबला था और उनकी चोटी की खिलाड़ी उनके बीच नहीं थी। और फिर कुछ ऐसा हुआ जिसकी उम्मीद टीम मैनेजमेंट से लेकर अन्य खिलाड़ियों को भी नहीं थी। लारेम ने कहा के वह राष्ट्र का सम्मान दांव पर लगा कर पिता की अंतिम यात्रा में शामिल नहीं होंगी। वह वतन वापिस नहीं जाएंगी।

फाईनल मैच में लारेम ने किया उत्कृष्ट प्रदर्शन

वह अपनी टीम के साथ रहेंगी और अपने राष्ट्र की प्रतिष्ठा की जंग में अपनी टीम को अकेला नहीं छोड़ेंगी। उन्होंने कहा के उनके पिता उन्हें देख रहे हैं और वह यह मुकाबला जीत कर उन्हें गौरवान्वित करना चाहती हैं। अगले दिन सारा दुःख और सारी पीड़ा भूल कर लारेम मैदान में उतरी। जम कर खेली और हिंदुस्तान विजयी हुआ। मैदान में जहां अन्य खिलाड़ी जश्न मनाते दिखे वहाँ अपने पिता को खो चुकी बिटिया के चेहरे पर एक फीकी सी मुस्कान दिखाई दी। फाईनल मैच में भी लारेम के उत्कृष्ट प्रदर्शन से हिंदुस्तान ने जापान को उसकी ही धरती पर पछाड़ दिया।

Read Also – 2019 World cup schedule full list Ind vs Pakistan match

इसे कहते हैं राष्ट्रवाद, इसे कहते हैं राष्ट्र के प्रति समर्पण। अपने पिता को खोने का दर्द भूल कर देश की यह बिटिया तिरंगे की शान की लड़ाई लड़ती रही।

सारांश

तो दोस्तों हमने आज इस आर्टिकल की मदद से हमने आपको एक ऐसी साहसी खिलाड़ी Lalrem siami hockey player के बारे में बताया जिसने देश के खातिर अपने पिता के अंतिम संस्कार में जाने से भी इंकार कर दिया। और अपने देश को हॉकी खेल में विजय बनाया। यदि यह पोस्ट आपको पसंद आई हो तो इसे अपने मित्रों में अपने परिवार के साथ शेयर अवश्य करें ताकि यह देश के कोने कोने तक पहुँचे। जो की देश हित में एक बहुत बड़ा योगदान रहेगा।

हम आशा करते हैं कि यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा। इस आर्टिकल को पड़ने के लिए और इस वेबसाइट पर आने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद।

यदि आपके आसपास ऐसी ही कोई कहानी है, जो किसी को प्रेरणा देने का कार्य कर रही है तो आप हमें बता सकते हैं आप हमारे कांटेक्ट फॉर्म वाले पेज पर जा कर वहाँ से आप हमने कांटेक्ट कर सकते हैं।

source – अखिलेश साहू https://www.facebook.com/sahu.akhil

You can also check our other articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *